post
post
post
post
post
post
post

राजद्रोह कानून पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, कहा 'इसके तहत कोई मामला दर्ज न करें केंद्र और राज्य'

Public Lokpal
May 11, 2022

राजद्रोह कानून पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, कहा 'इसके तहत कोई मामला दर्ज न करें केंद्र और राज्य'


नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने विवादास्पद राजद्रोह कानून पर रोक लगा दी है और केंद्र और राज्यों से आईपीसी की धारा 124ए के तहत कोई भी प्राथमिकी दर्ज करने से परहेज करने का आग्रह किया है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आईपीसी की धारा 124ए के प्रावधानों पर फिर से विचार करने और पुनर्विचार करने की अनुमति दी है। उच्चतम न्यायालय ने कहा कि जब तक दोबारा जाँच की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती, तब तक 124A के तहत कोई मामला दर्ज नहीं किया जाएगा।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बुधवार को कहा कि राजद्रोह कानून पर पुनर्विचार के दौरान केंद्र द्वारा प्रस्तावित मसौदा निर्देश जारी किया जाएगा।

सॉलिसिटर जनरल ने अपने तर्क में सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि वह पुलिस को देशद्रोह के प्रावधान के तहत संज्ञेय अपराध दर्ज करने से नहीं रोक सकता है, लेकिन धारा 124 ए के तहत प्राथमिकी तभी दर्ज की जानी चाहिए जब क्षेत्र के पुलिस अधीक्षक संतुष्ट हों कि किसी मामले के तथ्यों में देशद्रोह शामिल है।

सॉलिसिटर जनरल ने कहा, "जहां तक ​​लंबित मामले हैं, हम प्रत्येक मामले की गंभीरता को नहीं जानते हैं, हो सकता है कि कोई आतंकी कोण या मनी लॉन्ड्रिंग हो। आखिरकार, लंबित मामले न्यायिक मंच के सामने हैं, और हमें अदालतों पर भरोसा करने की जरूरत है''।

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को लंबित राजद्रोह के मामलों को स्थगित रखने पर केंद्र का रुख मांगा था।

जैसा कि केंद्र सरकार सोमवार को औपनिवेशिक युग के कानून की फिर से जांच करने के लिए सहमत हुई थी, शीर्ष अदालत ने दो प्रश्न उठाये। एक लंबित मामलों के बारे में है और दूसरा यह है कि सरकार पुनर्विचार तक भविष्य के मामलों को कैसे संभालेगी।

शीर्ष अदालत ने इस बात पर सहमति जताई कि भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 124ए पर फिर से विचार करना सरकार पर ही छोड़ दिया जाए।

अदालत ने, हालांकि, प्रावधान के निरंतर दुरुपयोग पर चिंता व्यक्त की और यहां तक ​​​​कि सुझाव दिया कि दुरुपयोग को रोकने के लिए दिशानिर्देश जारी किए जा सकते हैं या समीक्षा अभ्यास पूरा होने तक राजद्रोह कानून को स्थगित रखने का निर्णय लिया जा सकता है।

इससे पहले, केंद्र ने धारा 124ए का बचाव किया था, लेकिन सोमवार को एक हलफनामे में कहा कि उसने राजद्रोह कानून की "पुन: जांच और पुनर्विचार" करने का फैसला किया है और सुप्रीम कोर्ट से एक बार फिर इसकी वैधता की जांच करने में समय बर्बाद न करने करने का आग्रह किया है।

इस मामले की सुनवाई भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना, न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हेमा कोहली की पीठ कर रही है।

बता दें कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार, 2015 से 2020 के बीच देशद्रोह के 356 मामले दर्ज किए गए और 548 लोगों को गिरफ्तार किया गया। हालांकि, इस छह साल की अवधि में देशद्रोह के सात मामलों में हिरासत में लिए गए सिर्फ 12 लोगों को दोषी ठहराया गया।

NEWS YOU CAN USE

Top Stories

post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

Advertisement

Pandit Harishankar Foundation

Videos you like

Watch More