post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

गरीब कल्याण योजना के बारे में संसदीय पैनल की रिपोर्ट में सनसनीखेज खुलासा!

Public Lokpal
April 12, 2021

गरीब कल्याण योजना के बारे में संसदीय पैनल की रिपोर्ट में सनसनीखेज खुलासा!


नई दिल्ली: संसदीय स्थायी समिति के अनुसार, भारत में मजदूरों पर कोविद -19 के प्रभाव से निपटने के लिए सरकार के 'गरीब कल्याण रोज़गार अभियान' के तहत एक भी प्रवासी श्रमिक ने कौशल प्रशिक्षण पूरा नहीं किया है।

पिछले साल जून में इस योजना की घोषणा की गई थी, सरकार ने लगभग तीन लाख मजदूरों को कवर करने का लक्ष्य रखा था। हालांकि, इस साल फरवरी तक लगभग 86,000 श्रमिकों को नामांकित किया जा सका।

रिपोर्ट में कहा गया कि “अपने राज्यों में लौटे प्रवासी का प्रशिक्षण चल रहा है और अभी तक किसी भी उम्मीदवार ने प्रशिक्षण पूरा नहीं किया है। नतीजतन, आज तक कोई प्लेसमेंट नहीं हुई है। उम्मीदवारों को प्लेसमेंट के अवसर सफल प्रमाणीकरण के बाद प्रदान किए जाएंगे“।

प्रवासी श्रमिकों को रोजगार प्रदान करने और बुनियादी ढांचा तैयार करने के लिए 25 विभिन्न प्रकार के कार्यों के कार्यान्वयन से संबंधित 125-दिवसीय अभियान मुख्य रूप से छह राज्यों पर केंद्रित था, जहां अधिकतम प्रवासी श्रमिक वापस लौटे थे।

इस अभियान के लिए बिहार, यूपी, एमपी, राजस्थान, झारखंड और ओडिशा में कुल 116 जिले चुने गए थे।

और तीन जिलों यूपी के चंदौली, असम के नलबाड़ी और डिब्रूगढ़ को बाद में शामिल किया गया। तदनुसार, शार्ट टर्म ट्रेनिंग (STT) और रिकग्निशन ऑफ़ प्रायर लर्निंग (आरपीएल) योजना के तहत 1.5 लाख-1.5 लाख को लाभान्वित करने का लक्ष्य दिया गया था।

हालांकि, 19 फरवरी, 2021 तक, 67,121 उम्मीदवारों को एसटीटी के तहत दाखिला दिया गया था, जबकि आरपीएल के लिए 18,161 उम्मीदवारों का नामांकन हुआ है।

एसटीटी में आमतौर पर रोजगार की भूमिका के आधार पर 300-500 घंटे का प्रशिक्षण होता है, जबकि आरपीएल में 12 घंटे से लेकर 80 घंटे का प्रशिक्षण होता है।

इसके अलावा, सरकार ने राज्यों को लघु पाठ्यक्रमों को कम करने और उन्हें मान्यता कार्यक्रमों में स्थानांतरित करने की भी अनुमति दी है।

रिवर्स माइग्रेंट्स को प्रशिक्षित करने के लिए 115 प्रशिक्षण भागीदारों को चुना गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पैनल की इच्छा है कि चयनित भागीदारों पर यह सुनिश्चित किया जाए कि वे नियम और शर्तों के अनुसार काम करें।

Also Read | अब देश भर में कहीं से भी 'मेरा राशन' ऐप के जरिये राशन ले सकेंगे लाभार्थी

Top Stories

post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

Advertisement

Pandit Harishankar Foundation

Videos you like

Watch More