post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

भारत को अफगानिस्तान पहुँचने के लिए पाकिस्तान से मंजूरी की दरकार!

Public Lokpal
November 03, 2021

भारत को अफगानिस्तान पहुँचने के लिए पाकिस्तान से मंजूरी की दरकार!


नई दिल्ली: भारत ने पिछले महीने अफगानिस्तान को जमीनी रास्ते से अनाज भेजने के लिए पाकिस्तान से संपर्क किया। हालाँकि इस्लामाबाद ने अभी तक प्रस्ताव को ना नहीं कहा है, नई दिल्ली में अधिकारी त्वरित प्रतिक्रिया की उम्मीद कर रहे हैं ताकि वे जल्द से जल्द अपनी व्यवस्था कर सकें।

कई मौकों पर, भारत ने अफगानिस्तान के लोगों को मानवीय सहायता भेजने की इच्छा व्यक्त की है, हालांकि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को तालिबान शासन को मान्यता देने के परिणामों के बारे में सोचने के लिए आगाह किया गया है।

वहीं पाकिस्तान के आटा उद्योग ने अपनी सरकार को इस बात पर विरोध की धमकी दी है, उनका कहना है कि इससे उनके व्यापर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। असल में भारत ने पाकिस्तान के भूमि मार्ग से अफगानिस्तान को एक मिलियन टन से अधिक गेहूं निर्यात करने की अनुमति चाहता है।

पाकिस्तान के आटा उद्योग को लगता है कि सब्सिडी वाला भारतीय गेहूं उस उद्योग को अफगान बाजार से बाहर कर देगा, जिसे दो कारणों से निकटता और उच्च लाभ के लिए अपने कारोबार का अधिक विस्तार करना पड़ता है।

पाकिस्तानी उद्योग की माने तो भारत सरकार ने निर्यातकों को प्रति टन विशिष्ट $50 प्रति टन अतिरिक्त सब्सिडी की पेशकश की है।

अफगानिस्तान में भारतीय गेहूं की कीमत 2,900 रुपए (पाकिस्तान करेंसी)प्रति टन होगी, जबकि पाकिस्तानी जिंस 3,400 रुपए (पाकिस्तान करेंसी) प्रति टन है। 500 रुपये प्रति टन का यह अंतर भारतीय गेहूं के पक्ष में प्रतिस्पर्धात्मक बढ़त बनाता है और पाकिस्तान द्वारा अपने पारंपरिक बाजार को खो देना का डर है, अफगान बाजार पाकिस्तान से आधा मिलियन टन से अधिक आटे की खपत करता है।

Top Stories

post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

Advertisement

Pandit Harishankar Foundation

Videos you like

Watch More