post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

फ्रांस के जर्नल का एक और दावा, राफेल 'रिश्वत' की जांच नहीं कर रही सीबीआई', मचा हड़कंप

Public Lokpal
November 09, 2021

फ्रांस के जर्नल का एक और दावा, राफेल 'रिश्वत' की जांच नहीं कर रही सीबीआई', मचा हड़कंप


नई दिल्ली: फ्रांसीसी पोर्टल मीडियापार्ट ने आरोप लगाया है कि डसॉल्ट ने 2007 से 2012 तक भारत के साथ €7.87 बिलियन के राफेल सौदे को सुरक्षित करने के लिए एक शेल कंपनी के साथ "ओवरबिल" आईटी अनुबंधों के माध्यम से बिचौलिए सुशेन गुप्ता को €7.5 मिलियन का घूस दिया है। साथ ही जर्नल ने आरोप लगाया है कि अक्टूबर 2018 से संबंधित कागजात मौजूद होने के बावजूद, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने अभी तक जांच नहीं की है।

इस आरोप पर सीबीआई की प्रतिक्रिया का अभी इंतजार है।

जांच एजेंसियों ने सुषेन गुप्ता पर मॉरीशस स्थित शेल कंपनी इंटरस्टेलर टेक्नोलॉजीज लिमिटेड और कई अन्य संस्थाओं के माध्यम से 2010 अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे में कमीशन देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का आरोप लगाया है।

मार्च 2019 में, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने उस मामले में राजीव सक्सेना द्वारा किए गए खुलासे के आधार पर उन्हें गिरफ्तार किया, सुषेन गुप्ता को संयुक्त अरब अमीरात से निर्वासित किया गया था। बाद में राजीव सक्सेना ने खुलासा किया कि इंटरस्टेलर टेक्नोलॉजीज को सुषेन गुप्ता और एक अन्य आरोपी, गौतम खेतान द्वारा नियंत्रित किया जाता था। आगे उनके द्वारा विभिन्न देशों में अन्य संस्थाओं को धन हस्तांतरित किया गया।

फ्रांसीसी पोर्टल की रिपोर्ट के अनुसार, मॉरीशस में अटॉर्नी जनरल के कार्यालय ने हेलीकॉप्टर सौदे मामले में जानकारी मांगने वाले अनुरोध पत्र के जवाब में 11 अक्टूबर, 2018 को सीबीआई निदेशक को दस्तावेज भेजे थे। एक हफ्ते पहले 4 अक्टूबर 2018 को सीबीआई को वकील प्रशांत भूषण और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी से राफेल सौदे में भ्रष्टाचार का आरोप लगाने की शिकायत मिली थी।

पोर्टल के अनुसार, गुप्ता को 2001 में डसॉल्ट द्वारा एक बिचौलिया के रूप में तब काम पर लगाया गया था, जब भारत ने घोषणा की कि वह लड़ाकू जेट खरीदना चाहता है; आधिकारिक बोली प्रक्रिया 2007 में ही शुरू की गई थी।

अप्रैल में तीन-भाग की जांच श्रृंखला में, मीडियापार्ट ने कहा कि डसॉल्ट ने राफेल जेट के 50 प्रतिकृति मॉडल के उत्पादन के लिए, गुप्ता परिवार की भारतीय कंपनियों में से एक, डेफिस सॉल्यूशंस को € 1 मिलियन का भुगतान किया, लेकिन फ्रांसीसी अधिकारियों के पास ऐसा कोई सबूत नहीं है कि असल में वे बनाये भी बनाए गए थे।

इसके अलावा जुलाई में, फ्रांसीसी प्रकाशन ने बताया कि फ्रांसीसी राष्ट्रीय वित्तीय अभियोजक कार्यालय (पीएनएफ) के निर्णय के बाद एक फ्रांसीसी न्यायाधीश भ्रष्टाचार के आरोपों पर राफेल सौदे की न्यायिक जांच करेगा।

राफेल सौदे को पहले भी भ्रष्टाचार, पक्षपात और प्रक्रिया में विचलन के आरोपों से संबंधित कई सवालों का सामना करना पड़ा है।

Top Stories

post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

Advertisement

Pandit Harishankar Foundation

Videos you like

Watch More