post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

बड़ी खबर! कृषि कानूनों को वापस लेने के साथ किसानों के आगे झुकी सरकार, प्रदर्शन स्थल छोड़ने की अपील

Public Lokpal
November 19, 2021

बड़ी खबर! कृषि कानूनों को वापस लेने के साथ किसानों के आगे झुकी सरकार, प्रदर्शन स्थल छोड़ने की अपील


नई दिल्ली: प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को घोषणा की कि केंद्र तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करेगा। पीएम मोदी ने माफी मांगी और स्वीकार किया कि सरकार कृषि कानूनों पर किसानों के एक वर्ग को समझाने में विफल रही है। उन्होंने कहा कि इस महीने के संसद सत्र के दौरान तीन विवादास्पद कानूनों को निरस्त कर दिया जाएगा।

राष्ट्र के नाम सम्बोधन में प्रधानमंत्री ने कहा ''हमारी सरकार, किसानों के कल्याण के लिए, खासकर छोटे किसानों के कल्याण के लिए, देश के कृषि जगत के हित में, देश के हित में, गांव गरीब के उज्जवल भविष्य के लिए, पूरी सत्य निष्ठा से, किसानों के प्रति समर्पण भाव से, नेक नीयत से ये कानून लेकर आई थी। लेकिन इतनी पवित्र बात, पूर्ण रूप से शुद्ध, किसानों के हित की बात, हम अपने प्रयासों के बावजूद कुछ किसानों को समझा नहीं पाए। कृषि अर्थशास्त्रियों ने, वैज्ञानिकों ने, प्रगतिशील किसानों ने भी उन्हें कृषि कानूनों के महत्व को समझाने का भरपूर प्रयास किया''।

उन्होंने आगे कहा ''आज मैं आपको, पूरे देश को, ये बताने आया हूं कि हमने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का निर्णय लिया है। इस महीने के अंत में शुरू होने जा रहे संसद सत्र में, हम इन तीनों कृषि कानूनों को Repeal करने की संवैधानिक प्रक्रिया को पूरा कर देंगे''।

उन्होंने किसानों की एमएसपी की मांग पर कहा कि ''आज ही सरकार ने कृषि क्षेत्र से जुड़ा एक और अहम फैसला लिया है। जीरो बजट खेती यानि प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए, देश की बदलती आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर क्रॉप पैटर्न को वैज्ञानिक तरीके से बदलने के लिए, एमएसपी को और अधिक प्रभावी और पारदर्शी बनाने के लिए, ऐसे सभी विषयों पर, भविष्य को ध्यान में रखते हुए, निर्णय लेने के लिए, एक कमेटी का गठन किया जाएगा। इस कमेटी में केंद्र सरकार, राज्य सरकारों के प्रतिनिधि होंगे, किसान होंगे, कृषि वैज्ञानिक होंगे, कृषि अर्थशास्त्री होंगे''।