post
post
post
post
post
post
post

कैसी होती है वृंदावन की होली?

Public Lokpal
March 12, 2022

कैसी होती है वृंदावन की होली?


मथुरा: भारत उत्सवों का देश है जिसमें होली एक लोकप्रिय प्राचीन त्योहार है। आमतौर पर हिंदू विरासत की परंपराओं का प्रतिनिधित्व करने वाली होली में सभी धर्मों के लोग शामिल होते हैं।

"रंगों के त्योहार" के रूप में जाने जाने वाली होली का पहला संदर्भ चौथी शताब्दी ईस्वी सन् में मिलता है। जहां त्योहार की उत्पत्ति से जुड़े तमाम किस्से हैं, वहीं रंगों से खेलने की परंपरा श्रीकृष्ण से जुड़ी है।

युवा कृष्ण नीले रंग के और उनकी प्रेमिका राधा गोर रंग की थीं। जब उन्होंने अपनी माता यशोदा से पूछा कि उनके चेहरे का रंग काला क्यों है, तो उन्होंने सुझाव दिया कि कृष्ण राधा के चेहरे को रंग दें ताकि दोनों एक रंग में रंग जाएँ।

किंवदंतियों के अनुसार, कृष्ण का जन्म मथुरा में हुआ था और वृंदावन में उनका पालन-पोषण हुआ, दोनों शहर आधुनिक उत्तर प्रदेश में हैं। वह राधा के जन्मस्थान बरसाना गए और इस प्रकार, जैसा कि माना जाता है, अपने प्रियजनों को रंग देने की परंपरा शुरू हुई।

ब्रज उत्तर प्रदेश का एक क्षेत्र है जिसमें ये सभी शहर हैं और इसे इस परंपरा का मूल माना जाता है।

कैसे मनाई जाती है वृंदावन में होली?

मथुरा और बनारस की तरह वृंदावन में होली में शामिल होने न केवल देश के तमाम कोनों से बल्कि विदेश से भी हजारों लोग आते हैं। ब्रज भूमि में मनाया जाने वाला यह उत्सव पूरे एक सप्ताह में तमाम कार्यक्रमों के साथ प्रेम और सौहार्द के बीच मनाया जाता है।

फूलों वाली होली

फूलों वाली होली वृंदावन का एक अनूठा उत्सव है जो होली से पहले एकादशी को पड़ता है। पूरा शहर इस एक दिवसीय उत्सव में शामिल होता है जहाँ लोग एक दूसरे से फूलों वाली होली खेलते हैं। बांके बिहारी मंदिर में कृष्ण की मूर्ति को सफेद रंग के कपड़े पहनाए जाते हैं, और प्रथा अनुसार उन्हें उनके भक्तों के बीच लाया जाता है। उन्हें एक अनुष्ठान में गोस्वामी यानी पुजारी फूलों की पंखुड़ियों से नहलाते हैं।

विधवाओं की होली

यह अनूठा उत्सव प्राचीन परंपराओं के त्याग का प्रतीक है। विधवाओं को ऐतिहासिक रूप से समाज द्वारा बहिष्कृत किया गया और आश्रमों में रहने को मजबूर किया गया। उन्हें किसी कार्यक्रम और उत्सवों में शामिल होने से रोकर उनके जीवन को आनंदविहीन करने का प्रयास किया गया। उन्हें न किसी से प्रेम या दोस्ती करने की अनुमति थी न ही किसी बात पर इतराने की।

लेकिन यहाँ वे पागल बाबा के आश्रम में विधवाएं इस द्वेषी परम्परा के खिलाफ इकट्ठा होती हैं और रंगीन कपड़े पहनकर और वृंदावन में सबसे शानदार आयोजनों में से एक में शामिल होकर होली का त्यौहार बड़े ही उत्साह से मनाती हैं।

रंगों का यह त्यौहार एक महत्वपूर्ण प्रतीकवाद है क्योंकि भारतीय विधवाओं को केवल सफेद पहनने की अनुमति थी, जिसे रंगहीन माना जाता है।

धुलंडी

धुलंडी, या रंगों की होली, उत्सव की शैली है जो सभी क्षेत्रीय, राष्ट्रीय और सांस्कृतिक सीमाओं से परे बृजभूमि की सीमा के अंदर और बाहर दोनों जगह व्यापक रूप से लोकप्रिय है। भारत के विभिन्न हिस्सों ने अपनी अलग संस्कृति और आस्था के बावजूद इस त्योहार को अपनाया है।

इस दिन सभी पारंपरिक रूप से एक-दूसरे के चेहरे पर गुलाल लगाते हैं और रंग उड़ाते हैं। रंग में पानी मिलकर सभी पर बिना किसी भेदभाव के छिड़कते हैं और भक्ति संगीत के रस में डूब जाते हैं।

NEWS YOU CAN USE