post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

कोविड से प्रभावित परिवारों की सहायता के लिए 87 वर्षीय महिला करतीं है यह नायाब काम

Public Lokpal
August 25, 2021

कोविड से प्रभावित परिवारों की सहायता के लिए 87 वर्षीय महिला करतीं है यह नायाब काम


इंदौर: तमाम अन्य लोगों की तरह, दूसरी कोविड -19 लहर 87 वर्षीय उषा गुप्ता के लिए दुखों का पहाड़ ले आई। वह और उनके पति राजकुमार दोनों वायरस की चपेट में आये जहाँ उन्हें दिल्ली के बत्रा अस्पताल में भर्ती कराया गया। 27 दिनों के संघर्ष के बाद, उषा के पति का निधन हो गया, उनकी छह दशकों का साथ एक साथ समाप्त हो गई।

अस्पताल में उषा ने मरीजों और उनके परिवारों की लाचारी देखी। उसके अपने पति को दो बार ऑक्सीजन की कमी का सामना करना पड़ा और दुर्भाग्य से, दूसरी बार, वह जीवित नहीं रह पाए।

उन्होंने कहा “मैंने अपने चारों ओर बहुत दुख देखा। ऑक्सीजन की कमी एक बात थी। लेकिन ऐसा लग रहा था कि हम किसी युद्ध के बीच में खड़े हैं और हर कोई दहशत में है। पति को खोने के बाद मैंने खुद को खो दिया। मैं गहरे दर्द और सदमे में थी"।

उषा ने कहा कि उन्होंने देखा कि कैसे महामारी उन परिवारों को प्रभावित कर रही है जो आर्थिक रूप से मजबूत नहीं थे। अस्पताल में उन्होंने जो पीड़ा देखी, उसने उनके जीवन को एक नया अर्थ दिया जिसके बाद घर का बना और उसने स्वादिष्ट अचार बनाकर जरूरतमंदों की मदद करने का फैसला किया।

उषा ने जुलाई 2021 में 'पिकल्ड विद लव' का सफर शुरू किया, जहां उन्होंने घर का बना अचार और सॉस बेचना शुरू किया। अचार की बिक्री से होने वाले आय का इस्तेमाल कोविड-19 से प्रभावित लोगों तक भोजन पहुंचाने के लिए किया जाता है।

इस उद्यम को शुरू करने की प्रेरणा उनकी पोती, राधिका बत्रा से मिली, जो दिल्ली में एक बाल रोग विशेषज्ञ हैं। उषा के परिवार ने सारी जानकारी इकट्ठी की कि जरूरी सामान कहां से लाएं- ताजी सामग्री, बोतलें, लेबल प्रिंटर आदि।

उषा ने कहा "हर पैसा मायने रखता है। मुझे खुशी है कि छोटे पैमाने पर भी, मैं कुछ अलग करने में सक्षम हूं। 200 ग्राम अचार या सॉस की एक बोतल की कीमत 150 रुपये है। यह पैसा जो बेचकर इकट्ठा किया गया था और इसकी मार्केटिंग और 65,000 से अधिक जरूरतमंद लोगों को भोजन, जो कोविड से प्रभावित थे के लिए इस्तेमाल किया गया था"।

उषा अब वंचित महिलाओं को सशक्त बनाना चाहती हैं और उन्हें खुद के छोटे व्यवसाय शुरू करने के लिए प्रशिक्षित करना चाहती हैं। वह कहती हैं कि वह ऐसी महिलाओं को प्रशिक्षित करने और उन्हें आजीविका कमाने के लिए खाना पकाने की कला सिखाने के लिए तैयार है।

उषा ने 'Indian Vegetarian Cuisine' नाम की किताब भी लिखी है।