post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

औद्योगिक इकाइयों के पास 10,000 ऑक्सीजन वाले बेड वाले अस्थायी अस्पताल स्थापित करेगी सरकार

Public Lokpal
May 02, 2021

औद्योगिक इकाइयों के पास 10,000 ऑक्सीजन वाले बेड वाले अस्थायी अस्पताल स्थापित करेगी सरकार


नई दिल्ली: देश में मेडिकल ऑक्सीजन भारी कमी और आपूर्ति के अभाव को देखते हुए केंद्र ने औद्योगिक इकाइयों, जो अपेक्षित शुद्ध ऑक्सीजन का उत्पादन करते हैं, के पास अस्थायी अस्पतालों का निर्माण करके 10,000 ऑक्सीजन युक्त बेड उपलब्ध कराया जाएगा।

COVID-19 की स्थिति की समीक्षा करने के लिए रविवार को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आयोजित कई बैठकों के बाद, एक बयान में कहा गया कि सरकार ने ऑक्सीजन का उत्पादन करने के लिए मौजूदा नाइट्रोजन संयंत्रों के रूपांतरण की की संभावना तलाश की है,  विभिन्न ऐसे संभावित उद्योग जहां मौजूदा नाइट्रोजन संयंत्र हैं, को ऑक्सीजन के उत्पादन के लिए प्रोत्साहित किया ।

सरकार ने कहा कि कई उद्योगों जैसे स्टील प्लांट्स, पेट्रोकेमिकल इकाइयों, रिफाइनरी, पावर प्लांट गैसीय ऑक्सीजन का उत्पादन करते हैं। कहा गया कि "यह ऑक्सीजन चिकित्सा उपयोग के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है"।

इस रणनीति के तहत उन औद्योगिक इकाइयों की पहचान करना है जो अपेक्षित शुद्धता के गैसीय ऑक्सीजन का उत्पादन करते हैं, शहरों, घने क्षेत्रों और मांग केंद्रों के करीब हैं और उस स्रोत के पास ऑक्सीजन युक्त बेड के साथ अस्थायी COVID देखभाल प्रतिष्ठान स्थापित किया जा सकता है।

इस तरह की पांच सुविधाओं के लिए एक पायलट योजना की पहल की गई थी, और इस पर अच्छी प्रगति हुई है, सरकार ने कहा कि यह सार्वजनिक उपक्रमों या निजी उद्योगों के माध्यम से पूरा किया जा रहा है जो संयंत्र का संचालन केंद्र और राज्य के वितरण के समन्वय के साथ कर रहे हैं।

यह उम्मीद की जा रही है कि इस तरह की औद्योगिक इकाइयों के करीब अस्थायी अस्पताल बनाकर लगभग 10,000 ऑक्सीजन वाले बेड कम समय में उपलब्ध कराए जा सकते हैं।

Also Read | COVID संकट: हाई कोर्ट की फटकार के बाद केन्द्र ने बढ़ाया दिल्ली के ऑक्सीजन का कोटा, 490 MT से अब किया 590 MT