post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

केंद्र के Covid-19 टास्क फोर्स और AIIMS के चीफ की राय 'राष्ट्रीय लॉक डाउन जरूरी'

Public Lokpal
May 02, 2021

केंद्र के Covid-19 टास्क फोर्स और AIIMS के चीफ की राय 'राष्ट्रीय लॉक डाउन जरूरी'


नई दिल्ली: देश में COVID-19 मामलों के बड़े पैमाने पर आई भीषण बढ़ोतरी के बीच, रविवार को एक रिपोर्ट के अनुसार केंद्र सरकार द्वारा गठित Covid-19 टास्क फोर्स के सदस्यों और AIIMS के चीफ ने देश में कोरोनावायरस महामारी के संचरण के चेन को तोड़ने के लिए राष्ट्रीय लॉकडाउन की सिफारिश की है।

टास्कफोर्स, जिसमें एम्स और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद सहित देश के प्रमुख स्वास्थ्य संस्थानों के सदस्य हैं, कोरोनोवायरस के मामलों में हाल ही में आए अभूतपूर्व उछाल पर चर्चा कर रहे हैं। इन विचार-विमर्शों में, टास्कफोर्स के कुछ सदस्यों ने बताया है कि डबल म्यूटेंट वैरिएंट, जो अधिक संक्रामक और संभवतः घातक है। विमर्श में यह भी कहा गया है देश में सक्रिय मामलों के बढ़ते बोझ से पूरे स्वास्थ्य ढांचे को खतरा है।

इंडियन एक्सप्रेस ने रविवार को बताया कि राष्ट्रीय लॉक डाउन का विचार और सुझाव टास्क फोर्स जिसे National Expert Group on Vaccination यानी NEGVAC के अध्यक्ष डॉ वीके पॉल ने दिया है। यह पैनल देश में COVID-19 प्रबंधन रणनीति बनाता और देखता है, जो अपनी रिपोर्ट सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देता है।

20 अप्रैल को अपने अंतिम राष्ट्रीय संबोधन में पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोनावायरस महामारी से निपटने के लिए लॉकडाउन को "अंतिम उपाय" बताया था।

एक सदस्य द्वारा रिपोर्ट में कहा गया, “कोविद -19 टास्क फोर्स पिछले कुछ हफ्तों से इसे बहुत आक्रामक तरीके से कहने की कोशिश कर रहा है कि हमें शीर्ष पर लोगों को बताना चाहिए कि हमारे पास लॉकडाउन ही एक तरीका है। राज्यों में छोटे और टुकड़ों में अब हम जो कुछ भी कर रहे हैं, उसके बजाय एक राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन होना चाहिए क्योंकि साधारण तथ्य यह है कि अब सभी इस महामारी की चपेट में आ रहे हैं“।

एक अन्य सदस्य ने कहा कि वायरस के प्रसार को रोकने और स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए लॉकडाउन एकमात्र स्वीकार्य वैज्ञानिक उपकरण है।

Also Read | सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से किये तीखे सवाल, कहा कि 'वैक्सीन की सौ फीसदी खरीददारी क्यों नहीं करते आप'?