post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

सीमा विवाद: असम और मेघालय के मुख्यमंत्रियों की बैठक अगले सप्ताह गुवाहाटी में, मणिपुर एलायंस एजेंडा पर होगी बात

Public Lokpal
November 11, 2021 | Updated: November 11, 2021

सीमा विवाद: असम और मेघालय के मुख्यमंत्रियों की बैठक अगले सप्ताह गुवाहाटी में, मणिपुर एलायंस एजेंडा पर होगी बात


गुवाहाटी: असम और मेघालय के मुख्यमंत्री क्रमशः हिमंत बिस्वा सरमा और कोनराड संगमा  के बीच नई दिल्ली के संक्षिप्त दौरे के बाद 16 नवंबर को गुवाहाटी में बैठक होने की संभावना है। नई दिल्ली के दौरे में हिमंत बिस्वा सरमा और कोनराड संगमा ने भाजपा के शीर्ष नेताओं से मुलाकात की थी।

सूत्रों का कहना है कि संगमा ने इस हफ्ते की शुरुआत में सरमा को बैठक के लिए समय मांगने के लिए बुलाया था। बैठक में असम-मेघालय सीमा मुद्दे और एनडीए के घटनाक्रम सहित महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात हो सकती है। बैठक में विशेष रूप से आगामी मणिपुर चुनाव के संबंध में जहां भाजपा और संगमा की पार्टी दोनों के साथ चुनाव लड़ने के मुद्दों पर बात हो सकती है।

दोनों मुख्यमंत्रियों के विश्वास बहाली के उपायों के तहत दोनों राज्यों को जोड़ने वाले सीमावर्ती इलाकों का दौरा करने की संभावना है ताकि सीमा विवाद का स्थायी समाधान निकाला जा सके।

ऐसे छह क्षेत्र हैं जो विवादित हैं - ताराबारी, गिज़ांग, हाशिम, बोकलापारा, खानापारा-पिलंगकाटा - और दोनों राज्य सीमा के मुद्दों को सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करने के इच्छुक हैं।

कुछ महीने पहले, असम-मिजोरम संघर्ष के ठीक बाद, एनईडीए प्रमुख सरमा और मेघालय के सीएम के बीच एक बैठक बुलाई गई थी, जिसके बाद दशकों से चले आ रहे इस मुद्दे को सुलझाने में मदद के लिए क्षेत्रीय समितियों का गठन किया गया था।

संगमा की पार्टी एनपीपी पूर्वोत्तर क्षेत्र में एनडीए की प्रमुख गठबंधन सहयोगी है। दरअसल, मणिपुर राज्य में एनपीपी के पास डिप्टी सीएम पद के साथ दो मंत्रियों समेत चार विधायक हैं।

एनपीपी ने पहले ही घोषणा कर दी है कि वे अगले साल के मणिपुर राज्य विधानसभा चुनाव में अकेले उतरेंगे और उन्हें भाजपा के खिलाफ खड़ा किया जाएगा। एनपीपी ने कहा कि वे केवल चुनाव बाद गठबंधन पर विचार करेंगे।

Top Stories

post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post

Advertisement

Pandit Harishankar Foundation

Videos you like

Watch More